अब FASTag के बिना नहीं चलेगी आपकी गाड़ी, जानें सरकार का नया नियम


नई दिल्लीः टोल कलैक्शन को बढ़ावा देने के लिए गाड़ियों में फास्टैग को लेकर सरकार लगातार नियमों में बदलाव कर रही है। नए नियम के तहत अब फास्टैग को गाड़ी के इंश्योरेंस के साथ भी जोड़ा जा रहा है। इसके अलावा 1 दिसंबर, 2017 से पहले बिके चार पहिया वाहनों के लिए भी अनिवार्य कर दिया है। इन गाड़ियों के लिए अगले साल जनवरी से फास्टैग जरूरी हो जाएगा।

जानें नए नियम

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के नोटिफिकेशन के मुताबिक अगले साल जनवरी से उन गाड़ियों में भी फास्टैग लगाना अनिवार्य होगा जिनका रजिस्ट्रेशन एक दिसंबर, 2017 से पहले हुआ है। इसके अलावा 1 अप्रैल, 2021 से गाड़ियों के थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के लिए भी फास्टैग अनिवार्य कर दिया गया है। इसका मतलब गाड़ियों का थर्ड पार्टी इंश्योरेंस तभी हो पाएगा, जब गाड़ी पर फास्टैग लगा होगा। अगर गाड़ी पर फास्टैग नहीं होगा तो फिर ये बीमा कराने में वाहन मालिकों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

क्या है FASTag?

फास्‍ट टैग, रेडियो फ्रीक्‍वेंसी आईडीफिकेशन टैक्‍नोलॉजी पर आधारित एक टैग है। इसे वाहन के विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है। जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास आती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंडस्क्रीन पर लगे फास्टैग को ट्रैक कर लेता है। इसके बाद आपके फास्टैग अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क कट जाता है। नेशनल हाईवे के हर टोल प्‍लाजा पर एक लेन केवल फास्‍ट टैग लगी गाड़ी के लिए रखी गई है। जहां से आप बिना किसी रोक-टोक के गुजर सकते हैं।



Source link

Leave a Reply

%d bloggers like this: