विश्व में Covid-19 की सर्वाधिक जांच करने वाले देशों में भारत भी शामिल: स्वास्थ्य मंत्रलय


नई दिल्लीः केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रलय ने कहा है कि देश में कोविड-19 के मामलों का पता लगाने के लिये बुधवार को रिकार्ड संख्या में 11,72,179 नमूनों की जांच की गई और अब तक कुल 4,55,09,380 जांच की जा चुकी है। साथ ही, विश्व में प्रतिदिन सर्वाधिक जांच करने वाले देशों में भारत भी शामिल है। मंत्रलय ने कहा कि अधिक संख्या में जांच किये जाने के परिणामस्वरूप संक्रमण की पुष्टि होने की दर कम हुई है।

स्वास्थ्य मंत्रलय ने कहा, ‘‘जांच में भारत में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है। 24 घंटे में 11.7 लाख से अधिक जांच की गई। ’’ केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बृहस्पतिवार को संवाददाता सम्मेलन में यह पूछे जाने पर कि अब तक हुई कुल जांच में ‘‘रैपिड एंटीजन टेस्ट’’ अन्य जांच की तुलना में काफी ज्यादा है, तो उन्होंने कहा कि इस पर देश भर में एक जैसी स्थिति नहीं है। उन्होंने कहा कि तमिलनाडु में रोज 90 प्रतिशत से अधिक आरटी-पीसीआर जांच हो रही है, जबकि अन्य राज्यों में आरटी-पीसीआर जांच, ट्रूनैट और सीबीएनएएटी जांच क्षमता सीमित है तथा उन राज्यों में, यदि निरूद्ध क्षेत्र या बफर जोन हैं, तो कोई व्यक्ति सीमित जांच से संतुष्ट नहीं हो सकता।  

भूषण ने कहा, ‘‘मैं स्वीकार करता हूं कि ऐसे राज्य हैं जहां आरटी-पीसीआर का उपयोग नहीं हो रहा है और हम स्वास्थ्य मंत्रलय में मौजूद लोगों ने उन राज्यों का इस ओर ध्यान आर्किषत किया है कि उन्हें अधिक संख्या में आरटी-पीसीआर जांच करने की क्षमता तैयार करनी होगी तथा इसलिए उन्हें इसे बढ़ाने की जरूरत है। ’’ वहीं, भारतीय आयुर्विज्ञन अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक डॉ बलराम भार्गव ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने समन्वित तरीके से रैपिड एंटीजन टेस्ट का उपयोग करने को लेकर भारत की सराहना की है। मंत्रलय ने कहा कि देश में 30 जनवरी को महज 10 जांच किये जाने से लेकर अब प्रतिदिन जांच का औसत 11 लाख से अधिक हो गया है। यह देश में प्रतिदिन कोविड-19 की जांच बढऩे को प्रर्दिशत करता है। 

मंत्रलय ने कहा, ‘‘व्यापक क्षेत्रों में एक अवधि में सतत रूप से इस तरह से बड़े पैमाने पर जांच किये जाने से संक्रमण का समय रहते पता चला और इससे संक्रमित मरीजों को पृथक करने तथा उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने में मदद मिली।’’ भारत में कोविड-19 से होने वाली मृत्यु की दर आज की तारीख में घट कर 1.75 प्रतिशत हो गई है, जबकि इस रोग से उबरने का राष्ट्रीय औसत 77.09 प्रतिशत है। 

आंकड़ों के मुताबिक देश में कोविड-19 के 8,15,538 मरीज अभी इलाजरत हैं, जो अब तक के कुल मामलों का तकरीबन 21.16 प्रतिशत हैं। मंत्रलय ने कहा कि देश भर में जांच प्रयोगशालाओं के तेज विस्तार के चलते भी जांच बढ़ी है। भारत में आज की तारीख में 1,623 प्रयोगशालाएं (लैब) हैं, जिनमें 1,022 सरकारी हैं जबकि 601 निजी क्षेत्र के हैं। मंत्रलय द्वारा सुबह आठ बजे अद्यतन किये गये आंकड़ों के मुताबिक एक दिन में संक्रमण के रिकॉर्ड 83,883 मामले मामले सामने आने के बाद बृहस्पतिवार को देश में कोविड-19 के कुल मामले बढक़र 38,53,406 हो गए, जबकि एक दिन में 1,043 मरीजों की मौत होने के बाद कुल मृतक संख्या बढ़ कर 67,376 हो गई।



Source link

Leave a Reply

%d bloggers like this: